October 30, 2020

चलेंगे चाहे 10 किलोमीटर, टोल देना पड़ेगा पूरा ,सरकारी संगरक्षण के सहारे , टोल कम्पनी के वारे न्यारे 

:

बरेली के नैनीताल रोड पर दोहना टोल  प्लाजा स्थापना के साथ ही विवादों  में रहा है , पहले विकास प्राधिकरण की सीमा में टोल लगा होने के कारण स्थानीय निवासियों द्वारा इस टोल प्लाजा का भारी विरोध किया गया था तो वहीँ भोजीपुरा इंडस्ट्रियल एरिया के उधमी नाला निर्माण न होने से लेकर तमाम नियमो की अनदेखी के आरोप टोल कम्पनी पर लगाते रहते हैं अब इस टोल कम्पनी पी एन सी ने अपना एक और टोल बूथ उत्तराखंड की सीमा शुरू होने से पहले लगा दिया है , नियमानुसार यदि आप टोल की पूरी सड़क का उपयोग नहीं करते हैं तो आपको पूरा टोल नहीं चुकाना है , यानी आपको केवल भोजीपुरा तक जाना है या फिर किसी को वापसी में केवल बहेड़ी तक आना है तो उसको आधा टोल ही देना चाहिए , मगर नई व्यवस्था के तहत  टोल कम्पनी ने यात्रियों से टोल पर्ची सम्हाल कर रखने की  अपील की है यानी आपको पूरा टोल दोहना पर देना होगा और वो पर्ची आगे टोल बूथ पर दिखानी होगी , इसी तरह वापसी में पूरा टोल देकर पर्ची को दोहना टोल बूथ पर दिखाना होगा इस तरह अगर आप कुछ ही दूरी के सफर पर जाना चाहते हैं तो भी आपको पूरा टोल चुकाना होगा  

भोजीपुरा इंडस्ट्रियल एरिया के अध्यक्ष अजय शुक्ला का कहना है कि पी एन सी द्वारा सड़क किनारे नाला निर्माण नहीं किया गया है जिसकी शिकायत कई बार अधिकारियो से की जा चुकी है , अब पूरा टोल एक ही बूथ पर वसूलना पूरी तरह से मनमानी है 

गौरतलब है कि इससे पहले  उद्योग बंधू की बैठक में कम्पनी की कार्यप्रणाली पर सवाल उठते रहे हैं मगर कोई कार्यवाही नहीं हुई जिससे सवाल उठ  रहे हैं कि क्या टोल कम्पनी को सरकारी संगरक्षण प्राप्त है 

: